ताजा खबरें

राजनीति : राहुल गांधी मामले में कांग्रेस का मोदी सरकार पर पलटवार, मोदी राज में आम जनता की आवाज उठाने, भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज,, उठाना गुनाह हो गया है।

जशपुर : शुक्रवार को जशपुर के जिला कांग्रेस कार्यालय में चंद्रपुर विधायक रामकुमार यादव एवं जशपुर विधायक विनय भगत सहित कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ताओं ने प्रेसवार्ता की इस दौरन उन्होंने बताया कि

दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक दे” में आज आम आदमी की आवाज उठाना, भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाना गुनाह हो गया है। दे” की प्रमुख विपक्षी पार्टी के पूर्व अध्यक्ष 4 बार के सांसद राहुल गांधी जब संसद के अंदर बात करते हैं तो उनको बोलने नहीं दिया जाता, उनका माइक बंद कर दिया जाता है, सत्तारूढ़ दल के सांसद बहुमत के अतिवादी चरित्र का प्रदर्शन करते हुये संसद की कार्यवाही नहीं चलने देते है। केंद्रीय मंत्री अपने पद की गरिमा को तार-तार करते हुये अनर्गल बयाबाजी करते है और जब इन सबसे भी राहुल गांधी, कांग्रेस पार्टी और विपक्ष की आवाज को नहीं दबा पाते तो एक और ‘डयंत्र रचा जाता है।

राहुल गांधी की संसद सदस्यता को समाप्त करने का यह हम पूरे घटनाक्रम का सिलसिलेवार ब्योरा आपके समक्ष रखते है आप खुद विचार करिये, देखिये इस देश के लोकतंत्र को किस प्रकार नष्ट किया जा रहा है।

पहला घटनाक्रम

साथियों राहुल गांधी के ऊपर यह सारी कार्यवाही क्यों की गयी ? इसका एक मात्र कारण है राहुल गांधी ने दे” के प्रधानमंत्री की दुखती रत पर हाथ रख दिया। उन्होंने मोदी के निकट सहयोगी अ के घोटालेबाजी और अडानी-मोदी के गठबंधन पर आजज उठाया। उन्होंने दो सवाल पूछे थे 1. क्या अडानी की सल कंपनियों में ₹20,000 करोड़ या 3 बिलियन डॉलर है? अडानी इस पैसे को खुद कमा नहीं सकता क्योंकि वो इंफ्रास्ट्रक्चर विधानेस में है। यह पैसा कहां से आया? किसका काला धन

है ? ये किसकी शेल कंपनियां है ? ये कंपनिया डिफेंस फील्ड में काम कर रही है। कोई क्यों नहीं

जानता? यह किसका पैसा है ? इसमें एक बीगी नागरिक शामिल है। कोई यह सवाल क्यों नहीं पूछ

रहा है कि यह चीनी नागरिक कौन है

2. प्रधानमंत्री मोदी जी का अडानी से क्या रिश्ता है ? उन्होंने श्री अडानी के विमान में आराम करते हुए पीएम मोदी की तस्वीर दिखाई। उन्होंने रक्षा उद्योग के बारे में हवाई अड्डों के बारे में श्रीलंका में दिए गए बयानों के बारे में बांग्लादेश में दिए गए बयानों के बारे में, ऑस्ट्रेलिया में स्टेट बैंक (भारत के) के चेयरमैन के साथ बैठे श्री नरेंद्र मोदी और श्री अडानी की तस्वीरें, जिन्होंने कथित तौर पर 51 बिलियन का ऋण स्वीकृत किया था. के बारे में दस्तावेज दिए। यह सबूत के साथ सवालों का दूसरा सेट था। मोदी सरकार ने सवाल का जवाब तो नहीं दिया उल्टे

राज्यसभा में कांग्रेस अध्यक्ष श्री मल्लिकार्जुन खडगे के भाषण से अडानी घोटाले के महत्वपूर्ण अंश और श्री राहुल गांधी के भाषण (लगभग पूरी तरह से) को संसद के रिकॉर्ड से हटा दिया गया। क्यों ?

संसद के बजट सत्र के चल रहे दूसरे भाग में भारत के इतिहास में पहली बार एक सत्तारूढ़ पार्टी भाजपा संसद को बाधित कर रही थी और इसे काम नहीं करने दे रही है। यह अडानी को बचाने के लिए एक ध्यान भटकाने की साजिश है। जबकि संयुक्त विपक्ष इस पर JPC (संयुक्त संसदीय समिति) चाहता है।

श्री राहुल गांधी पर भाजपा मंत्रियों द्वारा हमला किया गया। लोक सभा अध्यक्ष महोदय की

राहुल जी ने दो लिखित अनुरोध किये कि उनको संसद में जवाब देने दें। इसके बाद तीसरी

बार अध्यक्ष जी से मीटिंग भी की पर तीन अनुरोधों के बावजूद अध्यक्ष जी ने संसद में उन्हें बोलने का अवसर देने से इनकार कर दिया। इससे साफ पता चलता है कि पीएम मोदी नहीं चाहते कि अडानी के साथ उनके रिश्ते का पर्दाफाश हो।

दूसरा घटनाक्रम

13 अप्रैल 2019 कर्नाटक के कोलार में चुनावी भाषण देते हैं श्री राहुल गांधी

16 अप्रैल 2019

बीजेपी विधायक पूर्णेश मोदी ने गुजरात के सूरत में शिकायत दर्ज कराई।

107 मार्च 2022 शिकायतकर्ता ने अपनी शिकायत पर गुजरात उच्च न्यायालय से रोक लगाने की

मांग की: हाई कोर्ट ने रोक लगा दी।

07 फरवरी 2023 श्री राहुल गांधी ने लोकसभा में अडानी और पीएम मोदी के रिश्तों पर सवाल

16 फरवरी 2023

उठाते हुए भाषण दिया । शिकायतकर्ता ने गुजरात उच्च न्यायालय में रहने के अपने अनुरोध को वापस ले

लिया।

27 फरवरी 2023 निचली अदालत में सुनवाई फिर से शुरू ।

23 मार्च 2023

ट्रायल कोर्ट ने राहुल गांधी को दोषी ठहराया और अधिकतम 2 साल की सजा सुनाई।

24 मार्च 2023 लोकसभा सचिवालय ने 24 घंटे के भीतर राहुल गांधी जी की संसद सदस्यता

रद्द कर दी।

हम न्यायिक प्रक्रिया पर कोई टिप्पणी नहीं करेंगे आगे हम कानूनी लड़ाई लड़ेंगे। राहुल गांधी की सदस्यता रद्द करने के तीन दिन के अंदर लोकसभा के गृह समिति ने राहुल गांधी को मकान खाली करने के लिये 30 दिन का नोटिस दे दिया। यह सारी कार्यवाही यह बताने के लिये पर्याप्त है कि इस दे” में ताना” गही और असहिष्णु सरकार चल रही हैं।

> बीजेपी की ध्यान भटकाने की कवायद 3 हास्यास्पद आरोपों से साबित होती है-

सबसे पहले, उन्होंने दावा किया कि श्री राहुल गांधी ने “विदेशी ताकतों से लंदन में भारत की मदद करने के लिए कहा। ये एक सफेद झूठ है ! अगर कोई उनके वक्तव्यों को ध्यान से देखें, तो उन्होंने कहा कि ये भारत का अंदरूनी मामला है, हम स्वयं इसका हल निकालने में सक्षम है।

दूसरा, भाजपा अब झूठा हौवा खड़ा कर रही है कि श्री राहुल गांधी ने ओबीसी को सिर्फ इसलिए निशाना बनाया, क्योंकि उन्होंने पीएम मोदी से एक सवाल किया था। ध्यान भटकाने का एक और बोगस हथकडा ! जो व्यक्ति एकता फैलाने के लिए “भारत जोड़ो यात्रा में 4000 किलोमीटर पैदल चल सकता है, वो कैसे एक समुदाय को निशाना बना सकता है?

तीसरा – सूरत, गुजरात में एक निचली अदालत के फैसले के 24 घंटे के भीतर भाजपा ने श्री गांधी को लोकसभा में उनकी सदस्यता को रद्द करने के लिए बिजली की गति से काम किया, भले ही अदालत ने उन्हें उच्च न्यायालय में अपील करने के लिए 30 दिन का समय दिया था! भाजपा श्री राहुल गांधी से इतना डरती क्यों है ?

भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा की ओबीसी समुदाय का अपमान करने का आशप लगने की पटिया चाल स्पष्ट हताशा साबित हुई है-

सबसे पहले श्री राहुल गांधी द्वारा दिया गया बयान यह पूछ रहा था कि कुछ चोरों का एक ही उपनाम (नीरव मोदी, ललित मोदी और नरेंद्र मोदी) क्यों है उन्होंने ऐसा नहीं है कि “सारे मोदी चोर है । उन्होंने किसी समुदाय को निशाना नहीं बनाया। दूसरा, न तो नीरव मोदी और न ही ललित मोदी ओबीसी है और उनकी जाति जो भी हो, क्या उन्होंने धोखाधड़ी नहीं की? भाजपा धोखेबाजों और भगोड़ों को क्यों बचा रही है? तीसरा, कांग्रेस पार्टी में 2 ओबीसी मुख्यमंत्री है। इससे साबित होता है कि कांग्रेस उनके योगदान को महत्व देती है।

आपराधिक मानहानि के लिए अधिकतम दो साल की सजा आजतक किसी को नहीं मिली है। दूसरी ओर, भाजपा नेताओं के खिलाफ मामले अत्यधिक उदारता से निपटाए जाते हैं। उत्तर प्रदेश के बांदा से भाजपा सांसद, आरके सिंह पटेल को नवंबर में एक ट्रेन रोकने, सार्वजनिक सड़कों को अवरुद्ध करने और पुलिस कर्मियों पर पथराव करने के लिए दोषी ठहराया गया था लेकिन उन्हें केवल 1 साल की जेल हुई।

महात्मा गांधी, पंडित जवाहरलाल नेहरू, सुभाष चंद्र बोस, सरदार पटेल मौलाना आजाद जी को

या तो राजद्रोह या जेल के मामले में अंग्रेजों ने सजा दी। असल कांग्रेस ने अंग्रेजो के खिलाफ

जीत हासिल की। अब मोदी सरकार चोरों और घोटालेबाजों का पर्दाफाश करने के लिए श्री

राहुल गांधी पर निशाना साध रही है। कांग्रेस लड़ेगी, फिर जीतेगी।

यह प्रहार सिर्फ राहुल गांधी पर नहीं यह आक्रमण दे” के समूचे विपक्ष पर यह दें की 135 करोड जनता को धमकाने की साजि” है। राहुल गांधी विपक्ष के सबसे प्रभाव पाली नेता है। जब उनकी सदस्यता रद कर सकते है उनकी आवाज दबा सकते है तब आम आदमी की क्या बिसात? यह भारत के प्रजातंत्र में ताना” नाही की शुरूआत है कांग्रेस इससे डरने वाली नहीं। हम जनता के बीच जायेंगे, दें” के हर गली, मोहल्ले, चौक-चौराहे को संसद बनायेंगे। कहां-कहां आप हमारी आवाज रोकेंगे?

IG बिलासपुर ने मुंगेली का किया वार्षिक निरीक्षण,परेड की ली सलामी,दरबार में पुलिस कर्मचारियों की सुनी समस्याएं, SP कार्यालय का किया निरीक्षण,अधिकारियों की ली बैठक,दिए आवश्यक दिशा निर्देश,पढ़िए विस्तार से,,,,,

पुलिस अधीक्षक ने किया जिले के आधा दर्जन से अधिक थाना,चौकी का आकस्मिक निरीक्षण,लंबित मामलों का अविलंब निराकरण करने के दिये सख्त निर्देश,साथ ही मादक पदार्थ की तस्करी, जुआ-सट्टा पर पूर्णतः रोक लगाने के निर्देश दिए,,,

विजिबल पुलिसिंग के तहत सघन चेकिंग अभियान, 150 से अधिक नाबालिग वाहन चालक, तीन सवारी, शराब पीकर वाहन चलाने एवं मॉडिफाइड साइलेंसर वाले वाहन चालकों पर हुई कार्यवाही, 65 हजार से अधिक की हुई चलानी कार्यवाही,,,

Rashifal