Arabic Arabic Bengali Bengali English English Gujarati Gujarati Hindi Hindi Kannada Kannada Malayalam Malayalam Punjabi Punjabi Tamil Tamil Telugu Telugu
Arabic Arabic Bengali Bengali English English Gujarati Gujarati Hindi Hindi Kannada Kannada Malayalam Malayalam Punjabi Punjabi Tamil Tamil Telugu Telugu
Breaking News
महिला का रास्ता रोककर छेडखानी करने वाला आरोपी चढ़ा बलौदा पुलिस के हत्थे,आरोपी को चाम्पा से किया गया गिरफ्तार।छत्तीसगढ़ क्राइम :पीजी मेडिकल कालेज मे एडमीशन दिलाने के नाम से लाखों की धोखाधड़ी करने वाले आरोपी को गिरफ्तार करने में पुलिस को मिली सफलता,आरोपी को असम से किया गया गिरफ्तार।Crime jashpur : पीडीएस दुकान में राशन चोरी का खुलासा, पुलिस ने दो आरोपियों को किया गिरफ्तारBreaking news : अश्लील विडियो बना कर वायरल करने वाले आरोपी को पुलिस गिरफ्तार,पीड़िता और उसके बॉयफ्रेंड का वीडियो बनाकर यूट्यूब पर किया था वायरल,आरोपी का मोबाइल एवं सिम भी जप्त,CG NEWS : महिला एवं नाबालिक बालिका संबंधी अपराधों में की जा रही लगातार त्वरित कार्यवाही,छेड़खानी करने वाले आरोपी को जांजगीर पुलिस ने किया गिरफ्तार,बोर्ड परीक्षाओं को ध्यान में रखकर 10वीं-12वीं की विशेष तैयारी,लापरवाह शिक्षकों पर होगी सख्त कार्रवाई।CG Breaking : पिकनिक मना कर लौट रहे एक युवक की दर्दनाक सड़क हादसे में मौत, दो घायल,खूंटाघाट से मोटरसाइकिल पर लौट ते समय रतनपुर के पास हुआ हादसा।कुनकुरी एवं तपकरा स्वास्थ्य केंद्र में विशेषज्ञ चिकित्सकों ने किया मरीजों की जाँच,एमएमआई रायपुर की सीनियर इंडो क्रायनोलॉजिस्ट डॉ. कल्पना दास व बिलासपुर रेलवे गायनोकोलोजिस्ट विशेषज्ञ डॉ. इंदुबाला मिंज ने मरीजों की जांचयातायात व्यवस्था सुदृढ़ रखने के लिए कुनकुरी पुलिस को पार्षद ने स्टॉपर किया भेंट,CRIME : 1997 से दे रहा था पुलिस को चकमा,वहीँ दूसरा भी 7 साल से चल रहा था फरार,पुलिस पकड़ किया न्यायालय में पेश।

न्यू राजेंद्र नगर में पांच दिवसीय रंगोली की प्रदर्शनी शुरू, भगवान महावीर स्वामी के जन्म से मोक्ष तक हुआ चित्रण।

द प्राइम न्यूज में छत्तीसगढ़ एवं अन्य राज्यों जिले जनपद में संवाददाताओं की आवश्यकता है इच्छुक सम्पर्क करें,

रायपुर। न्यू राजेंद्र नगर स्थित महावीर स्वामी जिनालय में परमपूज्य साध्वी स्नेहयशाश्रीजी के पावन निश्रा में भगवान महावीर स्वामी के अवतरण से लेकर उनके मोक्षगमन तक रंगोली का चित्रण किया गया है। आध्यात्मिक चातुर्मास समिति के अध्यक्ष श्रीमान विवेक डागा जी ने बताया कि जिनालय में 10 अध्याय के अंदर 33 रंगोलियां बनाई गई है। इस रंगोली प्रदर्शनी का शुभारंभ शनिवार को किया गया। वहीं, रंगोली प्रदर्शन के पहले दिन छोटे बच्चों को स्टोरी टेलिंग के माध्यम से भगवान महावीर स्वामी की जीवनी और उनके संयम को समझाया गया। साथ ही उन्हें अच्छे और गलत को पहचान कर अंतर्मन की आवाज सुनने का महत्व बताया गया। इस अवसर पर साध्वी स्नेहयशाश्रीजी ने कहा कि चाहे बच्चा गर्भ में हो तो भी उनके माता-पिता को कोई गलत बात नहीं करनी चाहिए। क्योंकि वह गर्भ के अंदर से ही सीखना समझना शुरू कर देता है। बचपन में मन कच्चा रहता है, इस समय बच्चों को जैसा आप बनाना चाहते हो वैसे ही आपको उसे सिखाना होगा। रंगोली को आईएसबीएम यूनिवर्सिटी (ISBM University) के चांसलर विनय अग्रवाल ने गोल्डन बुक्स ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज करवाया है। उन्होंने साधवी स्नेहयशाश्रीजी से चर्चा करते हुए बताया कि शिक्षा के क्षेत्र में आईएसबीएम यूनिवर्सिटी ने एक बड़ा कीर्तिमान स्थापित किया है। यहां बड़ी संख्या में देशभर के छात्र पढ़ने आते हैं। शिक्षादान के क्रम में विश्विद्यालय के संदर्भ में उन्होंने घोषणा की है कि जैन समाज के विद्यार्थियों को यूनिवर्सिटी में 50 प्रतिशत तक की स्कॉलरशिप दी जाएगी।

वहीं, रंगोली चित्रण में निम्नलिखित प्रसंगों का चित्रण किया गया है।

1. प्रभु वीर का देवलोक से च्यवन और देवनंदा ब्राह्मणी की कुक्षी में अवतरण।
2. सौधर्मेन्द्र के आदेश से हरिणगमेषी देव द्वारा गर्भापहरण।
3. गर्भापहरण से देवनंदा ब्राह्मणी का शोकाकुल होना।
4. जगतजननी माँ त्रिशला द्वारा 14 स्वप्नों का दर्शन।
5. प्रभुवीर जन्म पश्चात सर्वप्रथम 8 दिशाओं से 56 दिक्कुमारिओं द्वारा सुतिकर्म एवं नृत्यारंभ।
6. पंच रूपधारी शंकेन्द्र का मेरु महोत्सव के प्रसंग पर प्रभु को हस्त संपुट में लेकर गमन।
7. मेरु पर्वत पर प्रभुवीर का जन्म अभिषेक।
8. मैया त्रिशला द्वारा बालवीर प्रभु का लालन-पालन।
9. वर्धमान कुमार (वीरप्रभु) का विद्यालय गमन एवं इंद्र द्वारा प्रश्नोत्तरी।
10. आमल की क्रीड़ा में सर्परूप देव से जीते, तथा हारा हुआ देव राक्षस का रूप बनाकर भगवान महावीर को डराया। निडरता देख वर्धमान कुमार महावीर कहलाये।
11. वर्धमान कुमार का यशोदा के साथ पाणिग्रहण (विवाह)।
12. बड़े भाई नंदिवर्धन से संयम स्वीकारार्थ अनुमति देने की प्रार्थना।
13. दीक्षा ग्रहण के लिए चन्द्रप्रभा शिबिका में बैठकर प्रभुजी का प्रयाण।
14. नंदिवर्धन राजा का दीक्षा वरघोड़े में पूरी प्रजा के साथ प्रयाण।
15. पंचमुष्टि लोच और मनः पर्यवज्ञान की उत्पत्ति।
16. दीक्षा पश्चात प्रभु का छठ तप का पारणा बहुल ब्राह्मण के हाथ से।
17. ग्वाला द्वारा प्रभु को प्रथम उपसर्ग और इंद्र द्वारा निवारण।
18. प्रभु के हाथ से वस्त्र ग्रहण कर भाग्यशाली बना निर्भागी ब्राह्मण।
19. अस्थि ग्राम में शूलपाणि यक्ष द्वारा प्रभु को उपसर्ग।
20. संगमदेव द्वारा एक ही रात में किये गए 20 उपसर्ग।
21. कटपुतना व्यंतरी द्वारा किया गया शीत उपसर्ग।
22. कनकखल आश्रम में चंडकौशिक को प्रतिबोध।
23. सुंदष्ट्र देव द्वारा नांव डुबाकर किये गए उपसर्ग का कंबल-शंबल देव द्वारा निवारण।
24. चंदनबाला ने कराया प्रभुजी के 175 उपवास का पारणा।
25. देव द्वारा चंदनबाला के सिर पर बाल आना, हतकड़ी एवं बेड़ी का टूटना।
26. ग्वाला द्वारा प्रभुजी के कानों में खीले ठोकना।
27. खरक वैद द्वारा प्रभु के कानों से खीलें निकलना।
28. ऋजुबालिका नदी के किनारे प्रभु वीर को गोदुग्ध आसन में केवलज्ञान की उत्पत्ति।
29. देवों द्वारा निर्मित समवसरण में इंद्रभूति आदि 11 ब्राह्मणों को दीक्षित कर वासक्षेप द्वारा गणधर पद पर स्थापित।
30. केवलज्ञान पश्चात गोशाला द्वारा समवसरण में तेजोलेश्या का उपसर्ग।
31. 18 देशों के राजाओं के सन्मुख 16 प्रहर (48 घंटे) की अंतिम देशना।
32. प्रभुवीर का मोक्षगमन (निर्वाण कल्याणक) गुरु गौतम स्वामी का विलाप और केवलज्ञान की उत्पत्ति।
33. जलमंदिर पावापुरी भगवान महावीर का मोक्षगमन स्थल।

मुख्य रंगोली के लाभार्थी अनोपचंद तिलोकचंद ज्वेलर्स के संचालक तिलोकचंद बरड़िया हैं। उन्होंने बताया कि महावीर स्वामी जिनालय में भगवान महावीर के जन्म से लेकर उनके मोक्ष तक की रंगोली बनाई गई है। यह बहुत ही सुंदर ढंग से बनाया गया है। वहीं, एसपी ऑर्नामेंट्स – पारसजी गोलछा, दल्ली राजहरा, समृद्धि ज्वेलर्स, मेघनैनी ज्वेलर्स, उज्ज्वल ज्वेलर्स, गुरुदेव ज्वेलर्स, एआर ज्वेलर्स, मानस ज्वेलर्स, श्रीपाल ज्वेलर्स, मुकेश प्रोविजन स्टोर्स, चोपड़ा इंटरप्राइजेज चौबे कॉलोनी, अनिल ललित ज्वेलर्स, सुराना स्टोर्स, एनवी मार्बल, मानक ज्वेलर्स, अभय नोस पिन, राजधानी ज्वेलर्स अन्य लाभार्थी हैं।

कुनकुरी एवं तपकरा स्वास्थ्य केंद्र में विशेषज्ञ चिकित्सकों ने किया मरीजों की जाँच,एमएमआई रायपुर की सीनियर इंडो क्रायनोलॉजिस्ट डॉ. कल्पना दास व बिलासपुर रेलवे गायनोकोलोजिस्ट विशेषज्ञ डॉ. इंदुबाला मिंज ने मरीजों की जांच

Rashifal